रविवार, 17 मई 2015

धरोहर


रविवार, 19 अप्रैल 2015 को मेरे द्वारा प्रकाशित कविता 

"पराई"  (नारी का, नारी को, नारी के लिए....: "पराई"पर परम आदरणीय श्रीमान सुशील कुमार जोशी साहब द्वारा प्रतिउत्तर में लिखी गई कविता,जो मेरे लिए किसी धरोहर से कम नहीं ये धरोहर सहेजने हेतु ही आज यहाँ प्रकाशित की है। 


बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है माना है 

पर कुछ ऐसा भी नहीं है क्या ? :)


समय कुछ कहीं कहीं 

बदलता हुआ भी 

नजर आ रहा है 

बेटी और बेटे में 

फर्क करने से 

आदमी अब कुछ 

बाज आ रहा है 

धैर्य रखना है 

और मजबूत 

करना है बेटियों 

को इतना अब 

आशा भी है 

और विश्वास भी है 

बेटी में बेटा और 

बेटे में बेटी 

देखने का समय 

जल्दी और बहुत 

जल्दी ही आ रहा है :)

गुरुवार, 7 मई 2015

तेरी प्रीत

मैंने जोग लिया हर ज़हर पिया,
तेरी प्रीत में ये जग छोड़ दिया, 
इस प्रीत में ऐसी खो गई मैं ,
हर शख्स से नाता तोड़ लिया।  

बैरी बन गया तू ही मोरा पिया,
यही सोच के अब ये जले जिया, 
तेरी प्रीत में जग से बैर लिया,
तूने जग से ही नाता जोड़ लिया।  

हर शख्स मुझे समझाए यहाँ ,
तेरी प्रीत को ही ठुकराये जहाँ, 
मैं साज़ हूँ तू संगीत पिया ,
बिन धड़के कैसे फिर रहे जिया। 

मेरे दिल की लगी बस मैं जानूँ ,
तेरी प्रीत को ही सब कुछ मानूँ, 
तेरे प्रेम की ही धरा में रहूँ  ,
फिर कैसे तुझे अलविदा में कहूँ।  

एक बस तेरा इंतज़ार करूँ ,
बस तुझसे ही आँखें चार करूँ, 
बैराग सा है इक रोग सा ये,
इस इश्क़ में सारे दर्द सहूँ।

(स्वरचित ) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
एक लेखनी मेरी भी  http://lekhaniblogdj.blogspot.in/ 

रविवार, 19 अप्रैल 2015

"पराई"

आज भी हमारे इस सुसंस्कृत समाज में ऐसे कुछ सभ्य पढ़े लिखे प्रबुद्धजनों की कमी नहीं जो बेटियों के जन्म से व्यथित हो जाते हैं। क्यों? प्रश्न के जवाब में  उनका रटा रटाया एक ही जुमला सुनने को मिलता है-
"भाई !बेटी तो पराई होती है।"
उनके लिए बेटा प्यारा और
 बेटी लाचारी होती है 
क्योकि मज़बूरी है क्या करें?
बेटी तो पराई होती है। 
ये कविता उन तर्कवान लोगों को समर्पित -

सबकी ख़ुशी के लिए एक दिन,
जो अपना ही घर छोड़ आई। 
जाने कैसे कह देते हैं, 
एक पल में उसे "पराई" 

अपनी खुशियों के मोती से, 
माला उसने आपके लिए बनाई।
पर है तो वो बेटी और, 
बेटी तो होती है "पराई"

दामन में उसके दुःख हैं,
पर आपके चेहरे पर न छाए उदासी, 
इसलिए हर पल वो मुस्कुराई। 
फिर भी बेटी जाने क्यों होती है "पराई

आपकी पलकें भीगी नहीं,
लो उसकी भी आँखें छलक आईं। 
कितने गुणों की खान हो पर, 
बेटी तो होती है "पराई

अपनी हर मुस्कान में,
आपकी पीड़ा को समेट लाई। 
लाख जतन करले पर ,
वो कहलाएगी बस "पराई"

छोटे से इस आँचल में, 
आपके लिए खुशियाँ तो ढेर बटोर लाई 
पर नहीं ला पाई वो "अपनापन",
तो होगी ही "पराई"

सहनशीलता, संयम, धैर्य की, 
जब भी बात है आई 
सबके अधरों पर नाम बेटी का,
पर कहते फिर भी "पराई

मायके में "मर्यादा", 
ससुराल में "लक्ष्मी" कहलाई 
पर  अपनी किसी की फिर भी नहीं,
हर जगह सम्बोधन बस "पराई"

बसाकर अपना घर भी,
माँ-पिता का मोह न छोड़ पाई,
देह ससुराल में रमी मगर, 
आत्मा मायके में बसाई,
वो दुनिया में कोई नहीं बस.…… 
एक बेटी होती है भाई,
मत कहो.…… अरे !मत कहो.……… मत कहो उसे .…… 
"पराई"

(स्वरचित ) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
एक लेखनी मेरी भी  http://lekhaniblogdj.blogspot.in/ 

शनिवार, 11 अप्रैल 2015

मुस्कान

आज dj की लेखनी का मन है,आपको एक संस्मरण के दर्शन कराने का। 
मैं इस बात से बिलकुल अनभिज्ञ हूँ कि ये संस्मरण मेरे पाठकों के लिए उपयोगी है या नहीं ?ये भी नहीं जानती कि किसी के व्यक्तिगत संस्मरण को पढ़ने में सभी पाठकों की रूचि है या नहीं ?मगर वो नन्हीं-सी बालिका और उसकी प्यारी सी मुस्कान,मुझे रोक ही नहीं पाई लिखने से.…ये संस्मरण आज भी मेरी अमूल्य यादों का एक अभिन्न हिस्सा है। मेरे दृष्टिपटल पर वैसा ही विराजमान है और उसकी वो प्यारी मुस्कान भी.…। आज यहाँ लिखकर उस गुड़िया की मुस्कान को आप सब के साथ बाँटने जा रही हूँ। 
            

               एक बार मैं अपने पति महोदय के साथ देवास माता मंदिर दर्शन करने के उद्देश्य से पहुँची।मंदिर ऊँची टेकरी पर स्थित है। मंदिर की चढ़ाई शुरू होने से अंत तक फूल-मालाओं और प्रसाद  के साथ-साथ मूर्तियों,तस्वीरों और अन्य वस्तुओं की दुकाने सजी हुईं थी। चढ़ाई खत्म होने के पश्चात् टेकरी पर दो मुख्य मंदिर हैं जिनमे माँ तुलजा भवानी और चामुंडा माता की मूर्तियां विराजित हैं।इन्हें आम बोलचाल की भाषा में लोग क्रमशः बड़ी माता एवं छोटी माता कहते हैं। जिन पाठकों 
ने इस धार्मिक स्थल का भ्रमण किया है,वे जानते हैं इन दो मुख्य मंदिरों के दर्शन के पश्चात् की जाने वाली परिक्रमा की परिधि करीब दस से बारह मिनट की है और परिक्रमा करते हुए इस परिधि के अंतर्गत अनेक देवी-देवताओं के कईं छोटे-छोटे मंदिर बने हुए हैं। इन मंदिरों के पुजारी सुबह से यहाँ आकर मंदिरो की सेवा-पूजा में लग जाते हैं। अपने साथ खाने पीने का कुछ जरूरी सामान साथ ही लेकर बैठते हैं क्योंकि चढ़ाई चढ़ने के बाद ऊपर खाने पीने की कोई व्यवस्था नहीं होती।(वर्तमान में कुछ थोड़ी बहुत दुकानों की व्यवस्था हो चुकी है।)
                       

                     हम भी  दर्शन के पश्चात परिक्रमा करने लगे सभी लोग हर मंदिर में एक-दो रुपये की दक्षिणा रखते चले जा रहे थे। एक मंदिर  में एक छोटी सी बालिका जिसकी उम्र शायद कुछ सात-आठ वर्ष होगी, अपनी दादी के साथ बैठी थी। साधारण पर एकदम साफ़-स्वच्छ कपड़े और करीने से बंधे हुए बाल। उसके चेहरे पर अलग ही आभा चमक रही थी। उस पर उसका इतना मासूम-सा मुखमण्डल कि उसे देखते ही मैं उस पर मोहित हुए बिना रह ही न सकी। वो शायद अपनी दादी से बड़े प्यार मनुहार से कुछ विनती कर रही थी।ये नज़ारा दूर से ही दिखाई दे रहा था। उस मंदिर के समक्ष पहुँची नहीं थी मैं अभी। इसलिए उसकी बातें तो हमारे कानों तक नहीं पहुँच रही थी मगर उसके चेहरे की भाव-भंगिमाओं से ये निश्चित था कि वो उनसे कुछ मांग रही थी और उसकी दादी उसे समझा रही थी।शायद कह रही थी इतनी चढ़ाई उतरकर नीचे जाने और फिर चढ़कर ऊपर आने में उन्हें कष्ट होगा।बालिका छोटी होते हुए भी काफी समझदार थी। शायद इसलिए उनके एक बार समझाने पर ही मान गई। पर उसके मुखमण्डल पर माँगी चीज़ न मिल पाने की उदासी 
तो फिर भी छलक ही आई थी।
                            

                           ये सारा घटनाक्रम देखते देखते आखिरकार हम उस मंदिर के समक्ष पहुंचे। पति महोदय का ध्यान भी मेरी तरह उसी घटनाक्रम की और था शायद..... और वो मुझसे भी अच्छी तरह सारी स्थिति को भाँप गए थे। मैं कुछ समझ पाती उसके पहले उन्होंने जेब में हाथ डाला...... मगर.... सिक्का निकाल कर दान पेटी में डालने की जगह......एक चॉकलेट निकाली और उस गुड़िया के हाथ में थमा दी। और उसके चेहरे पर तुरंत मुस्कान बिखर गई एकदम इंस्टैंट......जैसे किसी लाइट का बटन दबाया और तुरंत प्रकाश बिखर गया हो और उसकी वो मुस्कुराहट हम दोनों के चेहरों पर मुस्कान लाये बिना न रह सकी। वो शायद कब से चॉकलेट ही माँग रही थी,मगर इतनी चढ़ाई उतरकर उसके लिए चॉकलेट लेने जाना और वापिस आना उसकी उम्रदराज़ दादी के लिए बहुत ही पीड़ादायक था। और मन माँगी चीज न मिल पाना उस बालिका के लिए। उस एक छोटी सी चॉकलेट ने दो लोगों की पीड़ा का समाधान कर दिया। 
                 वैसे भी भारतवर्ष में कन्याओं को "देवी" का रूप माना जाता रहा है,शायद ईश्वर ने हमारे हाथों उसकी वो छोटी सी मुराद पूरी करना ठानी हो बहुत शांति और सुकून की अनुभूति हुई घटना के बाद उसे खुश देखकर। शायद हमने उस कन्या के रूप में सच में एक जीती जागती "देवी "को प्रसन्न कर लिया था। 
         
                   इस घटना के बाद से हमने तय कर लिया है कि जब भी किसी चढ़ाई वाले मंदिर या दर्शनीय स्थल पर जायेंगे तो एक दो अतिरिक्त पानी की बोतलें,कुछ अतिरिक्त खाना, कुछ चॉकलेट्स और एक फर्स्ट ऐड बॉक्स जरूर साथ लेकर जाएँगे। 
                   
                   इसे हम शायद दान तो नहीं कह सकते, मगर जीवन में ऐसी छोटी -छोटी खुशियाँ बाँटते रहने से मन को बहुत आनंद की अनुभूति होती है।दान चाहे पैसों का न किया जाये,मगर जो किसी की भूख को तृप्त कर सके, किसी का तन ढँक सके, किसी के चेहरे पर थोड़ी सी देर के लिए ही सही मुस्कान ला सके, ऐसा दान अपने जीवन में हम सभी को कभी न कभी कर ही लेना चाहिए। है! ना ? तो जरूर कीजिये। क्या पता आपके जीवन में भी कोई ऐसी गुड़िया आपके स्मृतिपटल पर वो सुन्दर मुस्कान छोड़ जाए। क्या कहते हैं आप? 
ना! ना! कहिये नहीं। लिखिए, नीचे टिप्पणी में। 

(स्वलिखित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google



इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
एक लेखनी मेरी भी  http://lekhaniblogdj.blogspot.in/ 

बुधवार, 8 अप्रैल 2015

कैसे सीख गई मैं "माँ"

पता नहीं कैसे सीख गई मैं माँ,
रोटी बनाना,
अब तो गोल बना लेती हूँ।  
वो भारत का नक्शा,
अब नक्शा नहीं,
पृथ्वी जैसा दिखता है।  
आधा पक्का,आधा कच्चा,
सिकता था जो,
अब अच्छे से सिकता है। 

न जाने कैसे मैं सीख गई माँ,
सब्जी बनाना, 
जो कभी तीखी,
कभी फीकी,
कभी,
लगभग बेस्वाद सी बनती थी
अब तो,
हर एक मसाला उसमे,
बराबर डलता है 
नमक बिना माप भी,
अब तो,
एकदम सही पड़ता है।  

जाने कब सीख गई मैं.
तय बजट में घर चलाना,
हर महीने,
कपड़ों पे खर्च कर देने वाली मैं,
अब तो,
पाई पाई का हिसाब रखती हूँ।
जरुरत की चीजों की खरीदी पर भी
अब तो,
काफी कंट्रोल करती हूँ

जाने मैं सीख कैसे गई माँ,

यूँ सबका ख्याल रखना,
किसी की परवाह न करने वाली मैं,
अब सबके लिए सोचने लगी हूँ,
खुद से भी ज्यादा तो
अब मैं,
दूसरों की चिन्ता करने लगी हूँ।

और जाने कैसे सीख गई,

मैं चुप रहना,
सबकुछ यूँ चुपचाप सहना,
आप पर बात बात पे झल्लाने वाली मैं,
अब अधिकतर मौन ही रहती हूँ ,
आज गलती नहीं मेरी कोई,
सही हूँ ,
फिर भी चुपचाप सब सहती हूँ।

न जाने कैसे सीख गई

इतनी दुनियादारी,
मैं माँ,
कभी छोटी -छोटी बातों पे भी
आहत हो जाने वाली मैं,
आज बड़े बड़े दंश झेलना सीख गई,
एक छोटी सी परेशानी पर भी
फूट फूट कर रोने वाली मैं,
आज अकेले में पलकों की कोरें
गीली करना सीख गई।


पता नहीं कैसे सीख गई मैं,
"माँ"
ये सबकुछ,
जो मेरे बस का न था ,
ऐसा मुझे लगता था।  
जो मेरे लिए बना न था ,
ऐसा मुझे लगता था। 
पर देखो सीख ही गई मैं,
पता नहीं कैसे ?

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google

इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
एक लेखनी मेरी भी पढ़ने के लिए click करें http://lekhaniblog.blogspot.in/

रविवार, 5 अप्रैल 2015

नारी की कहानी

ए नारी तेरी हरदम नई कहानी,
कहीं तू गंगाजल की बूँद,तो कहीं बहता पानी।
तेरे बिन ये दुनिया कैसे सुहानी?
कहीं तू गंगाजल की बूँद तो कहीं बहता पानी।

तू ज्योत कभी मंदिर की तो कहीं चूल्हे की आग है,
है शांति का प्रतीक और भड़की तो विध्वंस का श्राप है। 
सुन्दर इस जहान में ईश्वर की अनमोल कृति तू ,
कहीं सुर्ख रंगो में सजी तो कभी श्वेत वस्त्रों का मिला अभिशाप है। 

किसी को तेरा हँसना नहीं भाता,
किसी को तेरे आँसू देखे बिना चैन नहीं आता।  
ईश्वर के बाद तेरी ही धुरी पे टिका ये सारा संसार है.
फिर भी तेरा सुख से जीना यहाँ दुश्वार है। 

कन्या रूप में तो पूज्यनीय तू,
और नारी रूप तेरा उपेक्षणीय है। 
तेरा सबकुछ सहते हुए भी,
हिम्मत से यूँ जीते जाना वन्दनीय है। 

ए नारी तेरी हरदम नई कहानी,
कहीं तू गंगाजल की बूँद तो कहीं बहता पानी। 
तेरे बिना ये दुनिया कैसे सुहानी,
कहीं तू गंगाजल की बूँद तो कहीं बहता पानी।

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
आपके विचार आप नीचे टिप्पणी में आसानी से लिख पाएंगे तो जरूर लिखिए। 
मेरा ब्लॉग एक लेखनी मेरी भी देखने के लिए क्लिक कर सकते हैं -http://lekhaniblog.blogspot.in/

शनिवार, 4 अप्रैल 2015

आप तो हंसिए

एक नारी की हँसी 

बचपन में खिलखिला के ही हँसा करती थी वो.... 
बड़ी होते-होते दुनिया ने दुनियादारी सिखा दी। 
आज कहते हैं दुनिया बदल गई, 
किसके सामने, कब, कितना ?
सब नाप-तौल के हंसना पड़ता है।  

पहले हँसी बस हँसी हुआ करती थी,
आज तो इसके कई नाम हैं।  
कभी बस मुस्कुराना,कभी झूठी हँसी, 
कहीं बनावटी भी हँसना पड़ता है। 

खिलखिलाना बिसरा है उसके लिए, 
मन की हँसी तो गुम सी हुई,
और लोग कहते हैं कि, 
ठहाके तो नारी के लिए अशोभनीय हैं,
तो बस.… 
दबी हँसी से ही काम चलाना पड़ता है।

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
पढ़ कर क्या महसूस किया अपने टिप्पणी जरूर कीजियेगा।इस कविता में किसी भी तरह की कमी या त्रुटि की और ध्यान आकर्षित कराएँगे,तो कृपा होगी।
मेरा ब्लॉग एक लेखनी मेरी भी देखने के लिए क्लिक कर सकते हैं -http://lekhaniblog.blogspot.in/

रविवार, 29 मार्च 2015

दो शब्द....., गुरु द्रोणाचार्य

गुरु द्रोणाचार्य -वे जिनके ब्लॉग, मैंने ब्लॉग बनाते हुए visit किये और जाना कि ब्लॉग कैसे बनाया जाये,कैसे हिंदी में लिखा जाए और क्या क्या ब्लॉग पर लिखा जा सकता है। आप सभी की जानकारी में न होते हुए भी सबके ब्लॉग से कुछ न कुछ सीख लिया है।इसीलिए आप हुए द्रोणाचार्य और मैं एकलव्य और गुरुदक्षिणा के रूप में ये दो ब्लॉग बनाये हैं। 
http://lekhaniblogdj.blogspot.in/
http://lekhaniblog.blogspot.in/
अब गुरुदक्षिणा आपकी रूचि की है या नहीं, ये तो आप पढ़कर ही बता पाएंगे।अपना अमूल्य समय देकर मार्गदर्शन अवश्य कीजियेगा। अब तक आपसे जो ज्ञान मिला उसके लिए आपको सधन्यवाद और आगे अब आप मुझे प्रत्यक्ष मार्गदर्शन देंगे। इस आशा में अग्रिम धन्यवाद।



धन्यवाद द्रोणाचार्य प्रतिभा सक्सेना जी 

http://lambikavitayen5.blogspot.in/ 

आपके ब्लॉग लालित्यम का कुछ अंश पढ़ा और अहसास हो गया कि आपकी तरह लिखने के लिए मुझे सात जन्म लेने होंगे। न जाने कब मैं आपकी तरह भावपूर्ण और बांध कर रखने वाले साहित्य की रचना कर पाऊँगी। शायद कईं जन्म लग जाएँ। आपको पढ़ पाना मेरा सौभाग्य है।आपके लेखन में सब कुछ  होता है। विषय का ज्ञान,उसकी गहराई, सुन्दर शब्द रत्न और उनका अत्यंत सुन्दर वर्णन।मनोहरी है आपकी अभिव्यक्ति की शैली। कोख का करार की अंतिम क़िस्त पढ़ने की प्रतीक्षा अब और मुश्किल होती जा रही है। 




धन्यवाद द्रोणाचार्य अर्चना चावजी मेम 

http://archanachaoji.blogspot.in/

आपके ब्लॉग मेरे मन की :मैं का कुछ अंश पढ़ा आपसे प्रभावित हुए बिना नहीं रह पाई मैं।  आपकी हर रचना मन को छूती है।  अपने अपनी एक पोस्ट में लिखा है -

समझ नहीं आता मेरे लिखे को अच्छा कैसे कहता होगा कोई ,
क्या मुझसे भी बुरा लिखता होगा कही कोई ....

अगर आप इतना अच्छा लिखकर भी ऐसा सोच सकतीं हैं तो जरा इधर एक बार हमारा लिखा पढ़ने का भी साहस जुटा ही लीजिये।आप जान ही जाएँगी कि दुनिया में सबसे खराब कौन लिखता है। पहली बार आपके ब्लॉग से ही जानने को मिला है कि ब्लॉगिंग के ज़रिये मन की अभिव्यक्ति सिर्फ लिखकर व्यक्त करने का नाम नहीं। पॉडकास्ट,गीत, कवितायेँ इतना सबकुछ कैसे कर लेतीं हैं आप। निःशब्द हूँ मैं। अभिव्यक्ति के सभी माध्यम हैं आपके ब्लॉग पर। सौभाग्यशाली हूँ कि आपका ब्लॉग पढ़ने को मिला।
कठपुतली तो हम सभी हैं उस ईश्वर के हाथ की बस शुक्र है कि उसने अब तक हमारी डोर अपने हाथ से छोड़ी नहीं उस गुड़िया की तरह। 




धन्यवाद द्रोणाचार्य रश्मि प्रभा जी

http://lifeteacheseverything.blogspot.in/


आपके ब्लॉग मेरी भावनायें का का कुछ अंश पढ़ा। आपकी तो रग -रग में साहित्य बसा है साहित्य की महान ज्ञाता हैं आप। आपका लिखा मन को छूता है। आपके ब्लॉग को पढ़ने का असीम सौभाग्य कुछ समय पहले ही मिला है मुझे। आपने निःसंदेह अपनी रचनाओं के माध्यम से अपने नाम को बखूबी सार्थक कर लिया है। अभी तो कविताओं का बीजारोपण शुरू ही किया है मैंने आपकी प्रतियोगिता में शामिल करने जितनी उत्कृष्ट कविताएँ तो नहीं है मेरी। पर आपके मार्गदर्शन रुपी जल से सिंचाई अगर मेरी लेखनी से रोपित, इन लेखन रुपी बीजों को मिल जाये तो शायद कुछ वक़्त के बाद इस मुकाम तक पहुँच पाऊँ।



धन्यवाद द्रोणाचार्य देवेन्द्र पाण्डेय जी 

http://devendra-bechainaatma.blogspot.in/

आपके ब्लॉग बैचैन आत्मा का कुछ अंश पढ़ा  आपका ब्लॉग जब भी पढ़ती हूँ,अधिकतर रचनाएँ पढ़ते हुए चेहरे पर बरबस ही एक धीमी सी निश्छल मुस्कान बिखर जाती है। मैं भी कभी आपकी तरह लिखकर, किसी के चेहरे पर ऐसी मुस्कान ला पाऊँ, ऐसा करने के लिए मेरे लिए तो सच में अभी बहुत "दूर है मंज़िल"



धन्यवाद द्रोणाचार्य मंटू कुमार जी

http://mannkekonese.blogspot.in/

आपका ब्लॉग मन के कोने से सबसे पहले देखा। आप का ब्लॉग पूरा पढ़
चुकी हूँ। यथार्थ  कहता और लिखता है आपके मन का कोना। बहुत यूनीक भी लिखते हैं आप। बस आपको पढ़ने के लिए काफी इंतज़ार करना पड़ता है। थोड़ा ज्यादा लिखेंगे तो हमें भी आपके साहित्य का रसानंद मिलता रहेगा। आधुनिक ज़माने की बेरंग होली मनाने से अच्छा रास्ता तो वही है मैं भी ऐसी ही होली मनाना पसंद करती हूँ कागज़ पर कलम की पिचकारी से शब्दों और भावनाओं के नित नए रंग बिखेरना। 



धन्यवाद द्रोणाचार्य अनु सिंह चौधरी जी 

http://mainghumantu.blogspot.in/

आपका ब्लॉग मैं घुमन्तु पढ़कर काफी प्रेरणा मिली। मैं तक़रीबन भूल ही चुकी थी लेखन मेरे अंदर का सारा कचरा साफ कर देता है। आपका ब्लॉग पढ़कर याद आ गया और आजकल समय निकाल कर सबसे पहले आपका मॉर्निंग पेज पढ़ती हूँ और फिर खुद के मॉर्निग पेजेस लिखने लगी हूँ। लेकिन वो पर्सनल डायरी तक ही सीमित रखे हैं। साहित्य के आपके जितने  सुंदर मोती बिखेरना जिस दिन सीख जाउंगी उस दिन आपके मॉर्निंग पेजेज की तर्ज पर कुछ नया शुरू करने का साहस जरूर जुटाऊंगी। और हाँ घर के काम मुझे भी बड़े unproductive और उबाऊ लगते हैं। 



आप जैसे ब्लॉग जगत के दिग्गजों के बीच मेरा कोई स्थान तो नहीं है 

बस आप सबका मार्गदर्शन पाने के लिए आप सबसे जुड़ने का असीम

साहस जुटा पाई हूँ। कृपया अपने अमूल्य समय का कुछ अंश देकर 

मेरी रचनाओं के विषय में मेरी आँखों पर बंधी पट्टी को उतारते 

रहिएगा। ताकि सच में कुछ अच्छा और रचनात्मक लिख पाऊँ। 

आपकी शिष्या 
dj 

दो शब्द….... आप सब को धन्यवाद

आप सब को धन्यवाद 

ईश्वर - मुझे मनुष्य जन्म देने के लिए। अन्यथा न ये मस्तिष्क होता, न मन और न विचार। और ये सब न होते तो मेरी लेखनी भी न होती। 


मेरे माता पिता -मुझे जन्म देकर अच्छा शिक्षण अच्छे संस्कार देने,मेरी सुसंस्कृत वातावरण में परवरिश करने, मुझे अपनी स्वतंत्र सोच बनाने और उसे बनाये रखने की प्रेरणा देने,साथ ही उसका समर्थन करने के लिए मैं आजीवन उनकी ऋणी रहूँगी।  


मेरे गुरुजन - विशेषकर आदरणीया श्रीमति सुनीता काले मेम, आदरणीय श्री तिवारी सर, श्रीमती श्रीवास्तव मेम,श्रीमती रीना मेम और महर्षि वेद व्यास विद्या मंदिर के सभी माननीय गुरुजन। आप सही मायने में मेरे सच्चे गुरु हैं, जिन्होंने समय-समय पर मुझे सही ज्ञान देने के साथ-साथ मेरी प्रतिभा को तराशने,मुझे प्रोत्साहित करने का भी कार्य किया है। 


मेरे सभी मित्र एवं रिश्तेदार - जो ब्लॉग बनाने के पहले भी और अब भी मेरी कृतियाँ मेरे कहने पर झेलते हैं और प्रतिक्रियाएं भी देते रहते हैं। तहेदिल से आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद। 


गुरु द्रोणाचार्य -वे जिनके ब्लॉग, मैंने ब्लॉग बनाते हुए visit किये और जाना कि ब्लॉग कैसे बनाया जाये,कैसे हिंदी में लिखा जाए और क्या क्या ब्लॉग पर लिखा जा सकता है। आप सभी की जानकारी में न होते हुए भी सबके ब्लॉग से कुछ न कुछ सीख लिया है।इसीलिए आप हुए द्रोणाचार्य और मैं एकलव्य और गुरुदक्षिणा के रूप में ये दो ब्लॉग बनाये हैं। 

http://lekhaniblogdj.blogspot.in/
http://lekhaniblog.blogspot.in/
अब गुरुदक्षिणा आपकी रूचि की है या नहीं, ये तो आप पढ़कर ही बता पाएंगे।अपना अमूल्य समय देकर मार्गदर्शन अवश्य कीजियेगा। अब तक आपसे जो ज्ञान मिला उसके लिए आपको सधन्यवाद और आगे अब आप मुझे प्रत्यक्ष मार्गदर्शन देंगे। इस आशा में अग्रिम धन्यवाद।
 dj 

दो शब्द.....ब्लॉग जगत के महानुभावों से ,

ब्लॉग जगत के महानुभावों को मेरा सादर नमन,
मैं dj (दिव्या जोशी) अपने ब्लॉग्स  के माध्यम से आपके सन्मुख कुछ रचनाएँ प्रदर्शित कर चुकी हूँ और कुछ लिखने का प्रयास जारी है। ब्लॉग जगत में कदम रखने का अनुभव मेरे लिए एकदम नया है।  पर जब से ब्लॉगिंग शुरू की है, सच मानिये स्वयं को नए जोश,उमंग और स्फूर्ति से भरा महसूस करने लगी हूँ।साहित्य का कोई विशेष ज्ञान नहीं रखती मैं, मगर कागज़ कलम से नाता बहुत पुराना है। लेखन से आत्मिक जुड़ाव है. लेखन ने  हमेशा मुझे परिपक्व और परिपक्व बनाने का कार्य किया है। बाल्य काल (कक्षा -7) में पहली कविता लिखी थी। बाद में कुछ लेख और कविताएँ ,जो  प्रथम पुरस्कृत भी हुईं। विद्यालय में अनेकों बार संचालन लिखने व करने का सौभाग्य मिला। इस बीच कभी किसी के जन्मदिवस ,प्रमोशन इत्यादि पर लिखना जारी रहा। बाद में लेखन छूट सा गया। लेकिन पढ़ना बदस्तूर जारी रहा। परन्तु शादी के पश्चात तो लेखन-वाचन लगभग बंद सा हो गया था। पर्सनल डायरी के अलावा इतने दिनों कुछ भी रचनात्मक लिख नहीं पाई। कारणों का जिक्र यहाँ आवश्यक नहीं। 
                            
                        ख़ैर सोशल मीडिया मुझे कभी आकर्षित नहीं कर पाया। मगर  अभी कुछ समय से ब्लॉग दनिया को जानने की असीम इच्छा जागृत हुई और मौका भी मिल गया। जानती तो पहले भी थी,पर इतना नहीं।विशेषकर जबसे हिंदी ब्लॉगिंग के बारे में जाना, तो इसके मोह में पड़ने से,मैं भी खुद को रोक नहीं पाई। लिखे बिना अब चैन नहीं मिल पाता है । एक जुनून सा उत्पन्न हो गया है। इसिलिए ब्लॉगिंग का दुःसाहस कर पा रही हूँ। 
             
               ईश्वर की कृपा से मेरे अभिभावक भी लेखन का हुनर रखते हैं, तो ये हुनर वंशानुगत ही समझिए। ईश्वर की अनुकम्पा से कक्षा 8 तक की शिक्षा जिस विद्यालय में संपन्न हुई,वहाँ  हमारी हिंदी शिक्षिका परम आदरणीया श्रीमती सुनीता काले जी (न जाने इस समय वे कहाँ हैं)  हिंदी भाषा की प्रबुद्ध ज्ञाता थीं। मेरी वर्तन शुद्धि का श्रेय उन्हीं को जाता है। उन्हें आज ह्रदय से नमन करते हुए धन्यवाद देना चाहती हूँ। माध्यमिक शिक्षा ही शिक्षण काल की धुरी उसकी नींव होती है। बस उन्ही की कृपा से आपको मेरे लेख, कविताओं आदि में वर्तनी की अशुद्धियाँ बहुत कम देखने को मिलेगी।अगर कहीं मिली भी, तो वो तकनीकि खामी की वजह से हो सकती है और अगर ऐसा कहीं आपको नज़र आए तो मार्गदर्शन अवश्य करे। क्योंकि वर्तन अशुद्धियाँ मेरे बर्दाश्त के बाहर की चीज़ है। साहित्य-संगीत में मेरी असीम रूचि है।  ये दोनों ही मनुष्य को परिपूर्ण बनाते हैं। 
                           
                                इसी साहित्य प्रेम की बदौलत दो ब्लॉग लेकर आपके समक्ष उपस्थित हूँ। एक लेखनी मेरी भी और नारी का नारी को नारी के लिए।  जहाँ पहले ब्लॉग में स्वरचित कविता,कहानियों से लेकर जो कुछ भी मेरी लेखनी लिखवाती है, उन सब का उल्लेख करूँगी। वहीँ दूसरे ब्लॉग में नारी से जुड़े विभिन्न पहलुओं, स्वास्थय,सौंदर्य,तीज-त्यौहार की जानकारी के साथ ही नारी के विभिन्न रूपों पर मेरी स्वरचित कविताओं,कहानियों इत्यादि का समावेश करना चाहूँगी।आप महानुभावों जितना ज्ञान,इतने प्रखर और सुन्दर विचार, इतना विशाल शब्द भण्डार तो नहीं है मेरे पास, पर आपके मार्गदर्शन से दिनों दिन सुधार करूंगी इसका वादा करती  हूँ।बस अपने क़ीमती वक़्त का किंचित मात्र हिस्सा मुझे देकर मार्गदर्शन ज़रूर कीजियेगा। आपकी ताउम्र आभारी रहूँगी। 
         
           आप सब से वस्तुतः यहाँ अनेक लाभों की मंशा से जुडी हूँ। एक तो, लेखन मेरी आत्मशुद्धि करके मुझे आत्मसंतुष्टि देता है। दूसरा, आप सबके बीच रहकर मुझ मूढ़मति में भी साहित्यिक ज्ञान का संचार हो जाएगा। और एक महत्वपूर्ण कारण कि मेरे मस्तिष्क में विचारों की त्सुनामी आती रहती है।व्यक्त न करूँ तो कहीं इन विचारों में मैं ही न बह जाऊँ, ये भी डर बना रहता है। 
बस आप सभी के मार्गदर्शन से स्वयं का ज्ञानवर्धन कर पाऊँ यही अभिलाषा है और इसके लिए आपका सहयोग अपेक्षित है। 
सधन्यवाद।
dj

शुक्रवार, 27 मार्च 2015

नवरात्र :देवी का नौवां रूप सिद्धिदात्री

सभी पाठकों को नवरात्री के अंतिम दिवस एवं रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। आइयें आज माँ की नवीं शक्ति माँ सिद्धिदात्री की भक्ति में खो जाएँ।जानकारी विकिपीडिया से साभार 

 दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है । इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति हो जाती है ।
सिद्धिदात्री : मां दुर्गा का नौवां रूप
नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। आइए जानते हैं नौवीं देवी सिद्धिदात्री के बारे में :-
भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए।
इस देवी की पूजा नौंवे दिन की जाती है। यह देवी सर्व सिद्धियां प्रदान करने वाली देवी हैं। उपासक या भक्त पर इनकी कृपा से कठिन से कठिन कार्य भी चुटकी में संभव हो जाते हैं। हिमाचल के नंदापर्वत पर इनका प्रसिद्ध तीर्थ है। अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व आठ सिद्धियां होती हैं। इसलिए इस देवी की सच्चे मन से विधि विधान से उपासना-आराधना करने से यह सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं।
भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए। इस देवी के दाहिनी तरफ नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा तथा बायीं तरफ के नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमल का पुष्प है। इनका वाहन सिंह है और यह कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं। विधि-विधान से नौंवे दिन इस देवी की उपासना करने से सिद्धियां प्राप्त होती हैं। यह अंतिम देवी हैं। इनकी साधना करने से लौकिक और परलौकिक सभी प्रकार की कामनाओं की पूर्ति हो जाती है।
मां के चरणों में शरणागत होकर हमें निरंतर नियमनिष्ठ रहकर उपासना करना चाहिए। इस देवी का स्मरण, ध्यान, पूजन हमें इस संसार की असारता का बोध कराते हैं और अमृत पद की ओर ले जाते हैं।
विकिपीडिया से साभार 

नवरात्र :देवी का सप्तम स्वरुप कालरात्रि

आज देवी के कालरात्रि स्वरुप की भक्ति का रसपान करें। 
साभार -विकिपीडिया 
कालरात्रि मां : दुर्गा का सातवां स्वरूप 
नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। आइए जानते हैं सातवीं देवी कालरात्रि के बारे में :-
कालरात्रि की उपासना करने से ब्रह्मांड की सारी सिद्धियों के दरवाजे खुलने लगते हैं और तमाम असुरी शक्तियां उनके नाम के उच्चारण से ही भयभीत होकर दूर भागने लगती हैं।
नाम से अभिव्यक्त होता है कि मां दुर्गा की यह सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती है अर्थात जिनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह एकदम काला है। नाम से ही जाहिर है कि इनका रूप भयानक है। सिर के बाल बिखरे हुए हैं और गले में विद्युत की तरह चमकने वाली माला है। अंधकारमय स्थितियों का विनाश करने वाली शक्ति हैं कालरात्रि। काल से भी रक्षा करने वाली यह शक्ति है।
इस देवी के तीन नेत्र हैं। यह तीनों ही नेत्र ब्रह्मांड के समान गोल हैं। इनकी सांसों से अग्नि निकलती रहती है। यह गर्दभ की सवारी करती हैं। ऊपर उठे हुए दाहिने हाथ की वर मुद्रा भक्तों को वर देती है। दाहिनी ही तरफ का नीचे वाला हाथ अभय मुद्रा में है। यानी भक्तों हमेशा निडर, निर्भय रहो।
बायीं तरफ के ऊपर वाले हाथ में लोहे का कांटा तथा नीचे वाले हाथ में खड्ग है। इनका रूप भले ही भयंकर हो लेकिन यह सदैव शुभ फल देने वाली मां हैं। इसीलिए यह शुभंकरी कहलाईं। अर्थात इनसे भक्तों को किसी भी प्रकार से भयभीत या आतंकित होने की कतई आवश्यकता नहीं। उनके साक्षात्कार से भक्त पुण्य का भागी बनता है।
कालरात्रि की उपासना करने से ब्रह्मांड की सारी सिद्धियों के दरवाजे खुलने लगते हैं और तमाम असुरी शक्तियां उनके नाम के उच्चारण से ही भयभीत होकर दूर भागने लगती हैं। इसलिए दानव, दैत्य, राक्षस और भूत-प्रेत उनके स्मरण से ही भाग जाते हैं। यह ग्रह बाधाओं को भी दूर करती हैं और अग्नि, जल, जंतु, शत्रु और रात्रि भय दूर हो जाते हैं। इनकी कृपा से भक्त हर तरह के भय से मुक्त हो जाता है।

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी॥ वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा। वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी॥
विकिपीडिया से साभार