शनिवार, 4 अप्रैल 2015

आप तो हंसिए

एक नारी की हँसी 

बचपन में खिलखिला के ही हँसा करती थी वो.... 
बड़ी होते-होते दुनिया ने दुनियादारी सिखा दी। 
आज कहते हैं दुनिया बदल गई, 
किसके सामने, कब, कितना ?
सब नाप-तौल के हंसना पड़ता है।  

पहले हँसी बस हँसी हुआ करती थी,
आज तो इसके कई नाम हैं।  
कभी बस मुस्कुराना,कभी झूठी हँसी, 
कहीं बनावटी भी हँसना पड़ता है। 

खिलखिलाना बिसरा है उसके लिए, 
मन की हँसी तो गुम सी हुई,
और लोग कहते हैं कि, 
ठहाके तो नारी के लिए अशोभनीय हैं,
तो बस.… 
दबी हँसी से ही काम चलाना पड़ता है।

(स्वरचित) dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। dj  कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google
मेरे द्वारा इस ब्लॉग पर लिखित/प्रकाशित सभी सामग्री मेरी कल्पना पर आधारित है। आसपास के वातावरण और घटनाओं से प्रेरणा लेकर लिखी गई हैं। इनका किसी अन्य से साम्य एक संयोग मात्र ही हो सकता है।
पढ़ कर क्या महसूस किया अपने टिप्पणी जरूर कीजियेगा।इस कविता में किसी भी तरह की कमी या त्रुटि की और ध्यान आकर्षित कराएँगे,तो कृपा होगी।
मेरा ब्लॉग एक लेखनी मेरी भी देखने के लिए क्लिक कर सकते हैं -http://lekhaniblog.blogspot.in/

4 टिप्‍पणियां:

  1. Wahh ji bhot sachhi bat he ye to. Beti badi hote hi use seekhana shuru kr dete pr koi b ye nhi kehta ki yahi muskan to uski pehchaan he....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिलकुल सही है रचना जी। धन्यवाद।

      हटाएं
  2. Man ko jhakhjorne wali rachana. esa lagta he jaldi khatm ho gai.

    उत्तर देंहटाएं